Prevention and Care of Common Kidney Diseases at Single Clickकिडनी फेल्योर के मरीजों की संख्या बहुत तेजी से बढ़ रही है! तो चलिये साथ मिलकर किडनी के रोगों की रोकथाम करें !

« Table of Contents

४. किडनी के रोगों का निदान

Topics
  • रक्त परीक्षण
  • रेडियोलॉजिकल परीक्षण
  • किडनी की बायोप्सी

कहावत है "समय पर लगाया गया एक टांका भविष्य में लगने वाले नौ टांकों से बचाता है"।

यह कहावत किडनी के रोगों के लिए एकदम सही साबित होती है। क्रोनिक किडनी रोग (CKD) का कोई सम्पूर्ण इलाज नहीं है और यदि इसका समय पर इलाज न किया जाए तो इसे अंतिम चरण की किडनी खराबी अर्थात् ई एस आर डी में परिवर्तित होने में समय नहीं लगता है। जैसा की पिछले अध्याय में चर्चा की गयी है की लंबे चलने वाले किडनी के रोगों में मरीज एकदम सामान्य हो और बीमारी के कोई लक्षण दिखाई ही न दें तो यही अत्यधिक खतरनाक होता है। दुर्भाग्य से किडनी के कई गंभीर रोगों के लक्षण शुरुआत में पता ही नहीं चलते इसलिए जब भी किडनी रोग की आशंका हो, तुरंत डॉक्टर को दिखाकर शुरुआती तौर पर ही इलाज शुरू कर देने पर इस बीमारी को तेजी से बढ़ने से रोका जा सकता है।

किडनी का परीक्षण किसे कराना चाहिए? किडनी की तकलीफ होने की संभावना कब अधिक होती है?

किसी भी व्यक्ति को किडनी की बीमारी हो सकती है। किंतु निम्नलिखित उपस्थित हों तो खतरा ज्यादा हो सकता है।

  • किडनी रोगों के प्रत्यक्ष लक्षण दिखाई देना
  • मधुमेह (डायबिटीज) होना
  • खून का दबाव अनियंत्रित रहना
  • परिवार में वंशानुगत किडनी रोग होना
  • लंबे समय तक दर्द निवारक दवाईयाँ ली गई हों
  • तम्बाकू का सेवन, मोटापा होना या 60 वर्ष से अधिक आयु का होना
  • मूत्रमार्ग में जन्म से ही खराबी होना

उपरोक्त व्यक्तियों में यदि किडनी की बीमारियों के लिए उचित जाँच की जाए तो यह किडनी के रोगों का निदान रोग के शुरुआत में ही हो सकता है और यह किडनी के रोगों का ज्यादा अच्छा इलाज करने में सहायक हो सकता है।

प्रारंभिक अवस्था में क्रोनिक किडनी रोग में कोई लक्षण दिखाई नहीं देते हैं। खून एवं पेशाब की जाँचों से ही इसका पता लगाया जा सकता है।
किडनी की समस्याओं का निदान कैसे किया जाता है व अक्सर कौन सी जाँच करवाई जाती है?

डॉक्टर द्वारा सही तरीके से बीमारी के बारे में विस्तृत जानकारियाँ पता करके मरीज की परोक्ष रूप से जाँच कर रक्तचाप नापें एवं उसके बाद खून व पेशाब की जाँच तथा एक्सरे आदि कराना चाहिए।

1.पेशाब जाँच :-

किडनी की विभिन्न बीमारियों में निदान के लिए पेशाब परीक्षण द्वारा उपयोगी जानकारी प्राप्त होती हैं। सामान्य पेशाब परीक्षण

  • यह सरल, सस्ता एवं उपयोगी परीक्षण है।
  • सामान्य पेशाब परीक्षण में किसी भी प्रकार की विषमता महत्वपूर्ण नैदानिक सुराग प्रदान करती है। किन्तु पेशाब परीक्षण की सामान्य एवं सही रिपोर्ट आने पर भी किसी अंतर्निहित किडनी रोग से इंकार नहीं किया जा सकता है।
  • पेशाब में प्रोटीन की उपस्थिति किडनी के विभिन्न रोगों में देखी जाती है। अतः इसकी उपेक्षा नहीं करनी चाहिए। पेशाब में प्रोटीन की उपस्थिति क्रोनिक किडनी रोगों की एवं ह्रदय रोग की प्रथम चेतावनी का संकेत हो सकती है। जैसे पेशाब में प्रोटीन जाना, मधुमेह में किडनी पर हुए असर का पहला संकेत होता है।
  • पेशाब में मवाद का होना मूत्रमार्ग में संक्रमण की निशानी है।
  • पेशाब में प्रोटीन और रक्तकणों का होना, किडनी में सूजन (ग्लोमेरुलोनेफ्राइटिस) का संकेत देता है।

माइक्रोएल्ब्यूमिन्यूरिया:-इसका मतलब है प्रोटीन का पेशाब में अत्यंत अल्पमात्रा में मौजूद होना। पेशाब की इस जाँच से मधुमेह द्वारा किडनी पर ख़राब असर का सबसे जल्दी और सही वक्त पर निदान होता है। इस स्तर पर संभव है की उचित सावधानी पूर्वक उपचार से रोग ठीक हो सकता है।

किडनी की बीमारियों का जल्दी पता लगाने और निदान के लिए सामान्य पेशाब परीक्षण अत्यंत महत्वपूर्ण होता है।

पेशाब के अन्य परीक्षण

24 घंटे के पेशाब में प्रोटीन की मात्रा : रोगियों में जिनकी पेशाब जाँच में प्रोटीन उपस्थिति पाई जाती है, उनके द्वारा 24 घंटे के पेशाब में प्रोटीन की कुल कितनी मात्रा का त्याग हो रहा है इसका निर्धारण करने के लिए यह परीक्षण अत्यंत आवश्यक है। यह परीक्षण बीमारी की गंभीरता का आंकलन करने के लिए और पेशाब में प्रोटीन के त्याग की मात्रा पर उपचार के प्रभाव को जानने के लिए बहुत उपयोगी है।

पेशाब का कल्चर और सेन्सिटीविटी की जाँच :(पेशाब में जीवाणुओं की वृध्दि और दवाओं का उन पर असर की जाँच)- इस परीक्षण से पेशाब में संक्रमण के लिए जिम्मेदार बैक्टीरिया के प्रकार और बीमारी के निदान और उसके उपचार हेतु असरकारक एंटीबायोटिक दवा के बारे में बहुमूल्य जानकारियाँ प्राप्त होती है। इस परीक्षण के परिणाम प्राप्त करने के लिए 48 - 72 घंटे लग सकते हैं।

पेशाब में एसिड फास्ट बेसिली (Acid Fast Bacilli) :यह परीक्षण पेशाब में टी. बी. के जीवाणु (Bacteria) और मूत्रमार्ग में टी. बी. के निदान के लिए उपयोगी है।

2.रक्त परीक्षण

विभिन्न रक्त परीक्षण किडनी की भिन्न-भिन्न बीमारियों के उचित निदान के लिए आवश्यक है।

  • खून में क्रीएटिनिन और यूरिया की मात्रा

खून में क्रीएटिनिन और यूरिया का स्तर किडनी की कार्यक्षमता को दर्शाता है। क्रीएटिनिन और यूरिया शरीर का अनावशयक कचरा है, जो किडनी द्वारा रक्त में से हटा दिया जाता है। जब किडनी की कार्यक्षमता कम हो जाती है तो रक्त में क्रीएटिनिन और यूरिया की मात्रा में वृध्दि होती है। रक्त में क्रीएटिनिन की सामान्य मात्रा 0.9 से 1.4 मिलीग्राम प्रतिशत और यूरिया की मात्रा (BUN) 20 से 40 मिलीग्राम प्रतिशत होती है। इनकी मात्रा में वृध्दि किडनी की खराबी का संकेत देती है। यूरिया की तुलना में रक्त में क्रीएटिनिन के स्तर के परीक्षण से किडनी की कार्यक्षमता का विश्वसनीय आंकलन होता है।

  • खून में हीमोग्लोबिन की मात्रा

स्वस्थ किडनी लाल रक्त कोशिकाओं (RBC) के उत्पादन में सहायक होती हैं। जिनमें हीमोग्लोबिन होता है। जब शरीर में हीमोग्लोबिन की मात्रा कम हो जाती हैं उसे रक्ताल्पता (एनीमिया) कहते हैं। रक्ताल्पता या एनीमिया, क्रोनिक किडनी रोग का एक महत्वपूर्ण पर आम लक्षण है। खून की कमी अन्य किसी बीमारियों की वजह से भी हो सकती है, अतः यह परीक्षण हमेशा किडनी की बीमारी ही बताये, ऐसा नहीं है।

सीरम क्रीएटिनिन एक मानक रक्त परीक्षण है जिसकी नियमित रूप से जाँच करने से किडनी के रोगों पर नजर एवं नियंत्रण रखा जा सकता है।
  • खून में अन्य परीक्षण :

किडनी के अलग-अलग रोगों के निदान के लिए खून के अन्य परीक्षणों में रक्त शर्करा (Blood Sugar) सीरम अल्ब्युमिन, कोलेस्ट्रॉल, इलेक्ट्रोलाइट्स (सोडियम, पोटैशियम और क्लोराइड), कैल्सियम, फॉस्फोरस, बाईकार्बोनेट, ए.एस.ओ. टाईटर, कोम्पलीमेन्ट की मात्रा वगैरह का समावेश होता है।

1. रेडियोलॉजिकल परीक्षण :
  • किडनी की सोनोग्राफी :

किडनी की सोनोग्राफी एक सरल, सुरक्षित और शीघ्र होनेवाली जाँच है। इसमें किसी विकिरण (Radiation) का जोखिम नहीं होता है। इससे किडनी का आकर, रचना और स्थान, किडनी में पथरी या गाँठ का होना आदि ज़रूरी जानकारियाँ मिल जाती है। एक अल्ट्रासाउंड मूत्रमार्ग में पेशाब प्रवाह की रुकावट का पता लगा सकता है। क्रोनिक किडनी फेल्योर के मरीज़ो में दोनों किडनी संकुचित (सिकुड़ी हुई) देखने को मिल सकती है।

  • पेट का एक्सरे :

यह परीक्षण पेशाब प्रणाली में कैल्शियम युक्त पथरी के निदान के लिए उपयोगी है।

  • इन्ट्रावीनस यूरोग्राफी (IVU)

इस जाँच को इन्ट्रावीनस पाइलोग्राफी (IVP) भी कहते हैं। यह एक विशेष एक्सरे परीक्षण है। इस परीक्षण में एक विशेष प्रकार की आयोडीनयुक्त डाई (रेडियो अपारदर्शी / रेडियो कॉन्ट्रास्ट तरल पदार्थ) जो एक्सरे की फिल्मों पर देखा जा सके ऐसी दवा का इंजेक्शन मरीज के हाथ की नस पर दिया जाता है। इस दवा का इंजेक्शन देने के पश्चात् थोड़े-थोड़े समय अंतराल के बाद पेट के एक्सरे लिये जाते हैं। इस पेट के एक्सरे में दवा, किडनी से होती हुई मूत्रमार्ग द्वारा मूत्राशय में जाती दिखाई देती है। यह दवा पेशाब पथ (किडनी, मूत्रवाहिनी और मूत्राशय) को रेडियो अपारदर्शीता प्रदान कर देती है, जिससे पुरे पेशाब पथ का दृश्य दिखाई देता है।

आई. वी. यू. किडनी की कार्यक्षमता और मूत्रमार्ग की रचना के बारे में जानकारी देती है। यह परिक्षण खासकर किडनी में पथरी, मूत्रमार्ग में अवरोध और गाँठ जैसी बीमारियों के निदान के लिए किया जाता है।

किडनी के रोगों के लिए सबसे महत्वपूर्ण प्रारंभिक जाँच पेशाब विशेषण, सीरम क्रीएटिनिन और किडनी का अल्ट्रासाउंड है।

सी. के. डी. के मामले में जब किडनी में खराबी की वजह से किडनी कम काम कर रही हो तो आई. वी. यू. परीक्षण उपयोगी नहीं होता है। किडनी की खराबी होने पर, पेशाब के दौरान डाई का उत्सर्जन अपर्याप्त हो सकता है। आई. वी. यू. एक एक्सरे जाँच होने की वजह से गर्भावस्था में बच्चे के लिए हानिकारक हो सकती है। इसीलिए गर्भावस्था के दौरान यह परिक्षण नहीं किया जाता है। अल्ट्रासाउंड और सीटी स्कैन की उपलब्धता के कारण यह परीक्षण आजकल कम किया जाता है।

  • वॉइडिंग सिस्टोयूरेथ्रोग्राम - वी. सी. यू. जी (VCUG)

वी. सी. यू. जी. को मिक्च्युरेटिंग सिस्टोयूरेथ्रोग्राम (MCU) के परीक्षण के नाम से भी जाना जाता है। इस परीक्षण का सबसे अधिक प्रयोग बच्चों में मूत्रमार्ग में संक्रमण मूल्यांकन में किया जाता है। इस विशेष एक्सरे परीक्षण में जीवाणु रहित परिस्थतियों में मूत्राशय को विशेष दवा से पेशाब कैथेटर के माध्यम से भरा जाता है। मूत्राशय भर जाने के बाद, पेशाब कैथेटर निकाल दिया जाता है और मरीज को पेशाब करने के लिए कहा जाता है। पेशाब के दौरान कुछ अंतराल पर लिए गए एक्सरे, मूत्राशय और मूत्रमार्ग की रुपरेखा दिखाते हैं। यह परीक्षण पेशाब वाहिनी एवं किडनी में पेशाब के बैकफ्लो (Backflow) का निदान करने में सहायक होता है। इस बीमारी को वसाइको यूरेट्रल रिफल्क्स - वी. यू. आर. (Vesico Uretral Reflux - V.U.R.) कहते हैं। यह परीक्षण मूत्राशय और मूत्रमार्ग की संरचनात्मक असामान्यताओं की पहचान करने में भी सहायक होता है।

  • अन्य रेडियोलॉजिकल परीक्षण

कुछ विशेष प्रकार के रोगों के निदान के लिए किडनी डॉप्लर, रेडियो न्यूक्लीयर स्टडी, रीनल एन्जियोग्राफी, सी टी स्केन, एन्टीग्रेड और रिट्रोग्रेड (retrograde) पाइलोग्राफी इत्यादि विशेष प्रकार की जाँच होती है।

  • अन्य खास परीक्षण

किडनी की बायोप्सी, दूरबीन से मूत्रमार्ग की जाँच और यूरोडाइनेमिक्स जैसी विशेष प्रकार की जाँच किडनी के कई रोगों के उचित निदान के लिए जरुरी है।

किडनी की बायोप्सी

किडनी की बायोप्सीकिडनी की बायोप्सी एक महत्वपूर्ण परीक्षण है, जिसे किडनी के कुछ रोगों के निदान के लिए उपयोग किया जाता है।

किडनी का अल्ट्रासाउंड एक सरल और सुरक्षित परीक्षण है जो किडनी के आकार और स्थान का आंकलन करने के लिए किया जाता है।
किडनी बायोप्सी क्यों जरुरी है?

किडनी के अनेक रोगों का कारण जानने के लिए सुई की मदद से किडनी में से पतले डोरे जैसा टुकड़ा निकाल कर और माइक्रोस्कोप से उसका हीस्टोपैथोलॉजीकल जाँच करने को किडनी बायोप्सी कहते है।

किडनी की बायोप्सी की सलाह कब दी जाती है?

किडनी के कुछ रोगों में विस्तृत पूछताछ, शारीरिक परीक्षण और साधारण परीक्षण आदि भी रोगों के उचित निदान करने में असमर्थ हो जाते हैं। ऐसे मरीजों में, किडनी बायोप्सी के द्वारा जो अतिरिक्त जानकारी प्राप्त होती है वह सही निदान करने में सहायक हो सकती है।

किडनी बायोप्सी कैसे सहायक होती है?

किडनी बायोप्सी से कुछ अस्पष्ट किडनी रोगों की पहचान की जा सकती हैं। इस जानकारी के साथ किडनी रोग विशेषज्ञ, उपचार के लिए प्रभावी रणनीति तैयार करने में सक्षम होता है। वह मरीज और उसके परिवार को बीमारी की गंभीरता और प्रकार से भी अवगत करा सकता है।

किडनी बायोप्सी करने के लिए किस तकनीक का उपयोग किया जाता है?

किडनी की बायोप्सी का सबसे आम तरीके से एक सुई के जरिए होती है। इसमें एक खोखली सुई, त्वचा से होती हुई किडनी में डाल दी जाती है एवं किडनी का एक छोटा टुकड़ा निकाल लिया जाता है। एक और बहुत कम इस्तेमाल की जाने वाली विधि है जिसे खुली बायोप्सी कहते हैं। इसमें सर्जरी की आवश्यकता होती है और इसे ऑपरेशन कक्ष में ही किया जाता है।

किडनी बायोप्सी किस प्रकार की जाती है?
  • किडनी बायोप्सी के लिए मरीज को अस्पताल में भर्ती किया जाता है एवं उसकी सहमति ली जाती है।,
  • बायोप्सी के पहले सुनिश्चित कर लेना चाहिए की रक्तचाप एवं रक्त में थक्का बनने की क्रिया सामान्य है या नहीं। खून को पतला करनेवाली दवा जैसे एस्पीरीन आदि बायोप्सी करने के दो सप्ताह पूर्व बन्द करना जरूरी है।
किडनी के कई रोगों के निदान के लिए किडनी बायोप्सी अतिआवश्यक जाँच है।
  • किडनी की स्थिति का पता लगाने के लिए अल्ट्रासाउंड या सी. टी. स्कैन किया जाता है।
  • जिससे किडनी की बायोप्सी के लिए सही जगह निर्धारित की जा सकती है जहाँ से सुई अंदर डाली जा सके। यह परीक्षण मरीज को बिना बेहोश किए किया जाता है। जबकि छोटे बच्चों में बायोप्सी बेहोश करने के बाद की जाती है।
  • बायोप्सी के दौरान मरीज को पेट के बल लिटाकर पेट के निचे तकिया रखा जाता है। बायोप्सी करने के लिए पीठ में निश्चित जगह, सोनोग्राफी की मदद से तय की जाती है। पीठ में पसली के नीचे, कमर के स्नायु के पास बायोप्सी के लिये उपयुक्त स्थान होता है। ,
  • इस जगह को दवा से साफ करने के बाद दर्दशामक इंजेक्शन देकर सुन्न कर दिया जाता है।
  • विशेष प्रकार की सुई (बायोप्सी नीडल) की मदद से किडनी में से पतले धागे जैसे 2 - 3 टुकड़े लेकर उसे हिस्टोपैथोलॉजी जाँच के लिए पैथोलॉजिस्ट के पास भेजा जाता है।
  • बायोप्सी के पश्चात्, रक्तस्त्राव रोकने के लिए बायोप्सी की जगह पर कुछ समय दबाव डाला जाता है। मरीज को अस्पताल में ही आराम करने की सलाह दी जाती है। अधिकतर मरीजों को दूसरे दिन घर जाने की अनुमति दे दी जाती है।
  • बायोप्सी करने के बाद मरीज को 2 - 4 सप्ताह तक मेहनत वाला काम नहीं करने की हिदायत की जाती है। खासकर वजनवाली वस्तु को नहीं उठाने की सलाह दी जाती है।
किडनी बायोप्सी करने में क्या किसी भी प्रकार का जोखिम होता है?

किसी भी शल्य प्रक्रिया की तरह, किडनी की बायोप्सी के बाद कुछ रोगियों में कुछ जटिलताएँ हो सकती है। बायोप्सी की जगह पर दर्द होना और एक दो बार लाल रंग का पेशाब होना कोई असाधारण बात नहीं है। यह प्रायः अपने आप ही बंद हो जाता है। कुछ मामलों में जहाँ रक्तस्त्राव जारी रहता है वहाँ खून चढ़ाने की आवश्यकता हो सकती है। बहुत दुर्लभ परिस्थितियों में यदि अनियंत्रित गंभीर रक्तस्त्राव हो रहा हो तब सर्जरी से किडनी को निकालने की आवश्यकता हो सकती है।

कई बार किडनी से प्राप्त ऊतक जाँच के लिए पर्याप्त नहीं होता हैं (बीस में से एक) । ऐसी परिस्थिति में पुनः बायोप्सी कराने की आवश्यकता हो सकती है।

किडनी की बायोप्सी, एक पतली खोखली सुई के इस्तेमाल से की जाती है जिसमें मरीज पूरी तरह होश में रहता है।
Indian Society of Nephrology
wikipedia
nkf
kidneyindia
magyar nephrological tarsasag